This post has already been read 1575 times!

Karva Chauth : Puja Vidhi : Vrat Katha : In हिंदी & English : Muhrat!

The Muhurat

The Muhurat starts at 06:00 PM and will ends at 07:19 PM. The Moonrise on Karva Chauth is on 08:27  PM. The Chaturthi Tithi begins on the 8th of October on 04:58 PM and the Chaturthi Tithi ends on the 9th of October on 02:15 PM.

Happy karva Chauth

Karva Chauth is a one-day festival celebrated by Hindu women in Northern India, in which married women fast from sunrise to moonrise for the safety and longevity of their husbands. The fast is traditionally celebrated in the states of Rajasthan, parts of Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, Haryana, and Punjab. The festival falls on the fourth day after the full moon, in the Hindu lunisolar calendar month of Kartik. Sometimes, unmarried women join the fast for their fiances or desired husbands.

 

KARVA CHAUTH PUJA VIDHI

ready for karva chauth

 

  • Women of the household wake up early in the morning much before the dawn and take bath.

           घर की महिला सुबह सुबह सूर्य निकलने से पहले उठकर स्नान करे।

  • Wear your wedding dress and jewels, do a lot of makeup and apply Mehendi on your hands.

          शादी का जोड़ा पहन के बहुत सारा मेकअप कर के तैयार होइए, हाथो पे मेहँदी लगाए।

Suggested : Top 10 Mehndi Designs For Karva Chauth 

 

  • On the whole day, you are not liable completely from doing any household works but the older women or responsible women of the household take care of work.
    पूरे दिन, आपको किसी भी घरेलू कार्य करने से पूरी तरह छूट मिली हुई है; परन्तु घर की बड़ी या घर की जिम्मेदार महिलाये काम काज का ख्याल रखे। 

 Also Check Click Now and also “GET PAID TO TRAVEL THE WORLD” Limited Time Offer. Click Here To Sign Up BuddyTraveler Infinyposts. 

 

  • Once the sun rises, the fast begins and the whole day is spent on some relaxing activities.
    सूर्य उदय होने के बाद से आपका उपवास लागु हो जाना चाइए;। बाकि सारा दिन आप आराम करने में बिता सकते है।




  • The Karva Chauth puja takes place in the evening when groups of married women gather at a place to perform he puja.
    शाम को करवा चौथ पूजा की शुरवात तब होती है; जब विवाहित स्त्रियों के समूह पूजा करने के लिए एक जगह पर इकट्ठा होते हैं।

karva cvhauth Group

  • Each of the women participating in the puja brings with her a puja thali (plate) consisting of auspicious items like sindhoor, mehendi, bangles and other items that married women use. In most regions, these plates are exchanged between women.
    पूजा में आने वाली सभी महिलाये, एक पूजा थली को लेकर आती है जिसमें सिंधुर, मेहंदी; चूड़ी और अन्य वस्तु जो एक शादीशुदा महिला इस्तेमाल करती है;। ज्यादातर क्षेत्रों में, ये प्लेटें महिलाओं के बीच आदान-प्रदान होती हैं।

Suggested : Top 10 Mehndi Designs For Karva Chauth 

  • After the evening puja, the women wait patiently till the moon shows up in the prospect. The karva or the earthen pot is set with water and the women first see the image of the moon in the pot and then spot the actual moon through a sieve. Immediately they look at the faces of their husbands.
    शाम को पूजा के बाद, आपको धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करनी हैं जब तक कि चाँद आसमान में दिखाई नहीं देता;। कारवा(मिटटी के बर्तन/लोटे) को पानी से भर कर पहली बार कारवा में चांद की छवि को देखे और फिर एक छन्नी के माध्यम से वास्तविक चंद्रमा को देखे;। इसके बाद तुरंत आप अपने पति के चेहरे को उस छन्नी में से देखे।

karva chauth moon

  • Usually, on this beautiful event of Karva Chauth your husband will give you some water from the karva in which the moon was spotte d and also some sweet to break the fast. It is also a common tradition where the husbands give some gifts to their wives by way of thanking them for their sincere effort. So get ready may be you are about get what you wished for!
    आम तौर पर, पति आपको कारवा से पानी पीलाये; जिसमें चंद्रमा देखा गया था और उपवास समाप्त करने के लिए कुछ मीठा भी खिलाये;। आजकल एक आम बात है जहां पति अपनी पत्नी को; उनकी लम्बी उम्र के लिए रखे गए कड़े उपवास के लिए उन्हें कुछ उपहार देते हैं;। तैयार हो जाइये शायद आपको कोई अच्छा उपहार मिल सकता हे;। परन्तु जीवन साथी के जीवन भर साथ रहने से अच्छा उपाय और कुछ नहीं है।

 

  • After these events, you can eat a full meal. And the karva chauth fast comes to a close.
    यह सारी प्रक्रिया के बाद आप संपूर्ण भोजन ग्रहण कर सकते है।

Suggested : Top 10 Mehndi Designs For Karva Chauth 

  • Karva Chauth vrat advises a very strict kind of fasting. The women are suppose to abstain from food, water and drinks throughout the day from dawn to dusk. In order to make the situation manageable, they are given sargi before the sun rises. After the evening puja, the reflection of the moon is spotted in the water in karva and the fast is then broken. Therefore the fast lasts for a little more than twelve hours on this day.
    करवा चौथ का वरत थोड़ा कठिन मन जाता है; क्यों के सबरे सूर्योदय से पहले आप बस थोड़ी सरगी कहते है और आपको सख्त तरीके से उपवास करना होता है;। जिसमे आप किसी भी तरीके का अन्न या पानी की बून्द भी ग्रहण नहीं कर सकती;। सूर्योदय से लेकर चन्द्रमा के दर्शन तक आपको यह उपवास रखना पड़ेगा; जो की करीब १२ घंटो से ज्यादा चलेगा।




Karva Chauth Vrat Katha : Most Popular Once!

Ladies While sharing Puja Thalis And Reading Katha!

The Story(katha) of Queen Veervati (English & Hindi)

A beautiful queen called Veervati was the only sister of seven loving brothers. She spent her first Karva Chauth as a married woman at her parents’ house. She began a strict fast after sunrise but, by evening, was desperately waiting for the moonrise as she suffered severe thirst and hunger. Her seven brothers couldn’t bear to see their sister in such distress and created a mirror in a Pipal tree that made it look as though the moon had risen.

The sister mistook it for the moon and broke her fast. The moment she ate, word arrived that her husband, the king, was dead. Heartbroken, she cried through the night until her shakti compelled a Goddess to appear and ask why she cried. When the queen explained her distress, the Goddess revealed how she had been tricked by her brothers and instructed her to repeat the Karva Chauth fast with complete devotion. When Veervati repeated the fast, Yamraja(the god of death) was forced to restore her husband to life.

वीरवती नाम की एक खूबसूरत रानी, ​​सात भाईयों की एकमात्र बहन थीं;। उसने अपने माता-पिता के घर में एक विवाहित महिला के रूप में अपनी पहली कारवा चौथ मनाई;। सूर्योदय के बाद उन्होंने सख्त उपवास की शुरुवात की, लेकिन शाम तक गंभीर प्यास और भूख वह से पीड़ित थी, और चंद्र उदय का बेसब्री से इंतजार कर रही थी;। उसके सात भाई इस तरह के संकट में अपनी बहन को देखना सहन नहीं कर सके और पीपल के पेड़ में एक दर्पण बनाया जिससे यह लगा कि जैसे चंद्रमा का उदय हो गया है।

वीरवती ने इसे असली चन्द्रमा समझ अपना व्रत समाप्त किआ; और जैसे ही उन्होंने पहला कण ग्रहण किया उन्हें खबर मिली उनके पति; जो राजा थे, उनकी मृत्यु हो गई;। उनका दिल टूट गया, वह रात भर तक रोइ जब तक कि उनके रोने ने देवी माँ को प्रकट होने के लिए मजबूर नहीं किया और माँ के प्रकट होते से देवी माँ ने पूछा की वह क्यों रो रही है;। जब रानी ने अपने संकट का वर्णन किया, तो देवी ने बताया कि उनके भाइयों ने उसे कैसे धोखा दिया था और उन्होंने पूरी भक्ति के साथ कार्व चौथ को दोहराने के निर्देश दिए;। जब वेरवती ने उपवास को फिर से दोहराया, तो यमराज को मजबूर होना पड़ा राजा को वापिस जीवन देने के लिए।

parvati mata

Suggested : Top 10 Mehndi Designs For Karva Chauth 

The katha of Karva (ENGLISH & HINDI)

A woman named Karva was deeply devot-ed to her husband. Her intense love also dedication towards him gave her shakti (spiritual power). While bathing at a river, her husband was caught by a crocodile. Karva bound the crocodile with a cotton yarn and asked Yamraj(the god of death) to send the crocodile to hell. Yamraj refused. Karva threatened to curse Yamraj and destroy him. Yama, afraid of being cursed by Pati-vrat (devoted) wife, sent the crocodile to hell and blessed Karva’s husband with long life. Karva and her husband enjoyed many years of wedded bliss. To this day, Karva Chauth is celebrate-d with great faith and belief.




कारवा नाम की एक महिला अपने पति के लिए गढ़ रूप से समर्पित थी;। उसके प्रति उनके प्रेम और समर्पण से उनको शक्ति प्रदान हुई;। एक बार एक नदी पर स्नान करते समय, उनके पति को मगरमच्छ ने पकड़ लिए था;। उस समय करवा ने सूती धागे के मदद से मगरमच्छ को बाध्य किया और यमराज(म्रित्यु के देवता) से मगरमच्छ को नरक में भेजने के लिए पूछा;। यमराज ने इनकार कर दिया;। करवा ने यम को शाप देने और उसे नष्ट करने की धमकी दी। पति-व्रत(श्रद्धालु) पत्नी के शापित होने से डरते हुए यमराज ने मगरमच्छ को नरक में भेजा और लंबे जीवन के साथ कार्वा के पति को आशीर्वाद दिया। करवा और उनके पति ने कई वर्षों का आनंद लिया। आज तक, करवा चौथ को महान विश्वास और विश्वास के साथ मनाया जाता है;। 

 Thank You For Reading Our Article on Karva Chauth. Also Read Top 10 Mehndi Designs For Karva Chauth

Top  blogs Top Blogs BlogrollCenter.Com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *